सोमवार, 23 जनवरी 2012



सूर्य कि उस रोशनी


सूर्य की उस रोशनी की धूल हूँ मैं
आग का गोला स्वयं हूँ
कोहरा हूँ मैं सुबह का
साँझ की मैं साँस हूँ
ज्योत्सना हूँ चन्द्रमा की
क्षितिज का आमास हूँ


मैंने जगाई है चमक दो पत्थरों में
धातुओं में घातु हूँ सोना खरा मैं
मैं हवा उस बाग की
जो पी गई खुशबू गुलाबों की


मैं कड़ी उस जीव की
जो है बनाता दायरे
वह तराज़ू सृष्टि की
जो तौलता, गिरता उठाता


मैं वही हूँ जो नहीं है
और है भी--
मैं सभी की आत्मा हूँ
मैं स्वयं परमात्मा हूँ








 

1 टिप्पणी:

  1. गीता सार समेट लिया है आपने इन पंक्तियों में। बधाई स्वीकारें॥

    उत्तर देंहटाएं