बुधवार, 27 अप्रैल 2011

रहते जैसे नदिया पानी


  मिल जुल कर रहना तुम ऐसे रहते जैसे  नदिया पानी 
             फडके जब भी आँख समझना  हुई तुम्हारी याद सयानी   
                             
                                 आखे रहे देखती सपने रात्रि दिवस का भेद नही हो
                            प्यार कवच हो संबन्धो का भूल चूक से खेद नही हो
                           कह् न सको  तो पाती  लिखकर दुहरा देना बात बयानी
                   
           ज्ञान प्रेरणा कुछ  पाने की प्रेम भावना खो जाने की    
        एक मांगता  पूर्ण समर्पण दूजा खुद को करता अर्पण 
      ल्क्ष्य एक ही खोना पाना प्रेमी हो या मुनिवर ज्ञानी
                  
                   महल झोंपड़ी रहने वाले हाथों अलग अलग रेखाएँ 
                 कोइ धन  के सागर डूबे  कोई  मन के घाट नहाये 
               संरचना है ऐक सभी की कोई याचक कोई  दानी
           
              लिखो कथानक कोई ऐसा  अन्तरतम संघर्ष जगाये
          जागे जिज्ञासा  आखिर तक प्रश्नों के सन्दर्भ उठाए
         संवादो के द्वार् खोलकर कहने आये पात्र कहानी 

 मिल जुल कर रहना तुम ऐसे रहते जैसे नदिया पानी 
फडके जब भी आँख समझना  करता कोई  याद पुरानी            

1 टिप्पणी:

  1. ‘ प्यार कवच हो संबन्धो का भूल चूक से खेद नही हो
    कह न सको तो पाती लिखकर दुहरा देना बात बयानी’

    मधुर संबंधों की बुलंदियों को छूते विचार। सुंदर कविता के लिए बधाई विनिता शर्मा जी॥

    उत्तर देंहटाएं